गिलोय की गोलियों या जूस को खाली पेट सुबह लेना अधिक लाभकारी है। वैसे आप इसकी छाल या तने से भी काढ़ा तैयार कर सकते हैं। कईयों ने अपने घर में इसकी बेल भी लगाई है। इसको रोज़ाना लेने से पेट की जलन से शांत होती है, प्लेटलेट्स का काउंट बढ़ता है तो वहीं डायबिटीज़ कंट्रोल होने के साथ इम्युनिटी भी बढ़ती है।

अगर ले रहे हों गोलियां...

ताज़ा गिलोय मिले, यह ज़रूरी तो नहीं। लेकिन गिलोय के फायदे को पढ़कर व सुनकर लोगों ने इसे अपने घर में उगाना शुरू कर दिया है। अब आपको ज़्यादातर लोगों की बैलकनी में गिलोय की बेल देख सकते हैं। मेडिकल स्टोर्स पर आपको गिलोय की गोलियां आसानी से मिलेंगी। वयस्क इसकी 2 गोलियां एक दिन में ले सकते हैं। वहीं, 5-10 साल तक की उम्र के बच्चों को आधी से 1 गोली एक दिन में दी जा सकती है। इससे ऊपर की उम्र के बच्चों को 1 गोली एक दिन में दें। गिलोय की टैबलेट न खाना चाहें तो और विकल्प हैं।

इसे और बेहतर करने के लिए 2 इंच अदरक, 3-4 तुलसी के पत्ते, गिलोय की बड़ी स्टिक, 2 काली मिर्च लें। अब 2 ग्लास पानी में अदरक, तुलसी और गिलोय मिलाएं। पानी को उबाल कर आधा कर लें। अब गैस बंद करके इसमें काली मिर्च और लौंग डालकर ढक दें। अब 5-10 मिनट बाद छानकर इस पानी को गुनगुना करके पीएं। इसे दिन में एक बार ही और एक ही ग्लास पीएं। कोई भी चीज़ सीमित मात्रा में ली जाए, वह तभी फायदा करेगी। इसलिए इसका सेवन बहुत अधिक मात्रा में न करें।

ऐसे बनाएं जूस

अगर आपको गिलोय का तना मिल गया है तो इसे अच्छी तरह धोकर दो ग्लास पानी में उबालें। पानी को उबाल कर आधा कर लें। फिर इसे ठंडा करके रोज़ाना 1 ग्लास जूस का सेवन किया जा सकता है। सर्दियों में गर्म और गर्मियों के मौसम में ठंडा पीएं।